अंतर्नाद

मैंने स्वयं रचा, तुम्हारा अनुभूत सत्य, तुम्हारे लिए ...

64 Posts

1148 comments

Santlal Karun


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

ओ, दसरथ माँझी !

Posted On: 11 Oct, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (7 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others कविता में

8 Comments

देहियाँ पे गाढ़ा चुंबन

Posted On: 5 Sep, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (8 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others कविता में

2 Comments

विरह-हंसिनी

Posted On: 24 Jul, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (9 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

कविता में

14 Comments

प्रकृति-कथा

Posted On: 15 Jun, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 4.20 out of 5)
Loading ... Loading ...

कविता में

8 Comments

बिच्छू के डंक-से ये दिन

Posted On: 12 Feb, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others social issues कविता में

20 Comments

दिल के आँसू पे यों फ़ातिहा पढ़ना क्या

Posted On: 5 Feb, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

कविता में

14 Comments

माँ, बहन, बेटी के आँसू

Posted On: 22 Jan, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

social issues कविता में

6 Comments

दिल या ख़ुदा मिलता नहीं

Posted On: 14 Jan, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

कविता में

29 Comments

एका अपने देश का

Posted On: 10 Jan, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

कविता में

11 Comments

ये कैसी धुन है !

Posted On: 2 Oct, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

कविता में

14 Comments

मंच-दाँ रहनुमा

Posted On: 25 Sep, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (13 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

social issues कविता में

13 Comments

हाते का पेड़

Posted On: 5 Sep, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (12 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others कविता में

18 Comments

साथ जीने की सज़ा

Posted On: 21 Aug, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (15 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others कविता में

14 Comments

गाँस खंजरशुदा हो गई

Posted On: 22 Jul, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (13 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others कविता में

20 Comments

एक चिरैया सोना-माटी

Posted On: 10 Jul, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (14 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others कविता में

14 Comments

सूख गए मधुवन

Posted On: 23 Jun, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (16 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

कविता में

22 Comments

हृदय सहचर

Posted On: 17 Jun, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (16 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

कविता में

18 Comments

पर्वत पर उतरा इन्द्रधनुष

Posted On: 11 Jun, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (14 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Hindi Sahitya कविता मस्ती मालगाड़ी में

14 Comments

धूल-मिट्टी से उठा एक सितारा

Posted On: 26 May, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (11 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Politics Special Days social issues में

2 Comments

बहुत हुआ

Posted On: 4 May, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (9 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others social issues कविता में

14 Comments

जंगल के हर मुहाने पर

Posted On: 8 Apr, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (12 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest social issues कविता में

21 Comments

लैंगिक-यौनिक विकलांगता : राज्य और समाज का कर्तव्य

Posted On: 22 Feb, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (8 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

social issues में

19 Comments

उर्वशी में नर-नारी का निसर्ग-निरूपण

Posted On: 29 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (10 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest Hindi Sahitya social issues में

20 Comments

संस्मरण : एक अदद ग़ज़ल मेरे आगोश में भी

Posted On: 26 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (10 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest Hindi Sahitya में

2 Comments

ग़ज़ल-ए-शहीदाँ

Posted On: 22 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (13 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest Hindi Sahitya में

14 Comments

दुष्यन्त की प्रेम-याचना

Posted On: 14 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (16 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest Hindi Sahitya Others कविता में

35 Comments

जागरण जंक्शन का वैशिष्ट्य और उसके दशानन

Posted On: 7 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (24 votes, average: 4.83 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest Hindi Sahitya Others social issues में

26 Comments

सबसे बड़ा दर्द और कई मृत्युदण्ड की सज़ा

Posted On: 2 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (17 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest Hindi Sahitya Others social issues में

10 Comments

यही इरादा है मन में

Posted On: 1 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (19 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Hindi Sahitya Special Days कविता मस्ती मालगाड़ी में

24 Comments

चाँद और सूरज दोनों में ग्रहण

Posted On: 12 Oct, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (11 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others social issues कविता मेट्रो लाइफ में

21 Comments

खुला अपहार

Posted On: 30 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (11 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others social issues कविता मस्ती मालगाड़ी में

8 Comments

contest गर्वीली भाषा हिन्दी की बाज़ार में भी भारी धमक

Posted On: 26 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (17 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest में

10 Comments

contest हिन्दी ब्लॉगिंग और हिंग्लिश

Posted On: 24 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (20 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest में

8 Comments

भारत की हृदयमाल

Posted On: 14 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (25 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Hindi Sahitya Others social issues कविता में

10 Comments

Contest हिन्दी ग़रीबों और अनपढ़ों की भाषा बनकर रह गयी है (?)

Posted On: 12 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (24 votes, average: 4.83 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest में

14 Comments

Contest हिन्दी के मुख्यधारा में आने की संभावनाएँ

Posted On: 6 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (28 votes, average: 4.86 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest में

32 Comments

contest हिन्दी दिवस : यह क्या हो गया है !

Posted On: 1 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (27 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest में

8 Comments

मेरी रामनामी (उत्तरार्द्ध)

Posted On: 22 Aug, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (18 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others social issues मस्ती मालगाड़ी में

6 Comments

मेरी रामनामी (पूर्वार्द्ध)

Posted On: 22 Aug, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (18 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others social issues मस्ती मालगाड़ी में

4 Comments

पहचानो मैं कौन हूँ !

Posted On: 17 Feb, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (18 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others मेट्रो लाइफ लोकल टिकेट में

22 Comments

निपट अकेली जलती माँ

Posted On: 26 Jan, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (19 votes, average: 4.95 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others मेट्रो लाइफ लोकल टिकेट में

34 Comments

मेरे पास आँकड़ा नहीं है !

Posted On: 13 Jan, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (24 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others मेट्रो लाइफ लोकल टिकेट में

49 Comments

Page 1 of 212»

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा: Dr. D K Pandey Dr. D K Pandey

के द्वारा: pkdubey pkdubey

आदरणीय दुबे जी, जालंधर में ‘दिलकुशा मार्केट’ है – यह जानकारी मुझे समाचारों के माध्यम से है, विस्तृत जानकारी नहीं है | लखनऊ में एक दिलकुशा एरिया है, कैंट एरिया से जुड़ा, उसी के आसपास और उसी क्षेत्र में गोमती नदी के तट पर 1800 ई. में निर्मित प्रसिद्ध ‘दिलकुशा कोठी’ है, जिसे गूगल पर सर्च करके देखा जा सकता है | सामान्यतया ‘दिलकुशा’ का अभिप्राय है दिल जहाँ खुश हो | ‘दिलकुशा’ शब्द ‘खुले हृदयवाला’, ‘उदार हृदय’ – जैसे अर्थों-अभिप्रायों के साथ प्रयुक्त हुआ है | कुछ उदाहरण दृष्टव्य हैं --- “अराइश-ए-ख्याल भी हो दिलकुशा भी हो/ वह दर्द अब कहाँ जिसे जी चाहता भी हो | जल्वा अयाँ है कुदरत-ए-परवर दिगार का/ क्या दिलकुशा ये सीन है फ़स्ल-ए-बहार का | गरचे है दिलकुशा बहुत हुस्न-ए-फरंग की बहार/ ताएरक-ए-बुलंद बाल दानो-दाम से गुजर |”

के द्वारा: Santlal Karun Santlal Karun

के द्वारा: शालिनी कौशिक एडवोकेट शालिनी कौशिक एडवोकेट

के द्वारा: Imam Hussain Quadri Imam Hussain Quadri

आदरणीय पापी जी, अभिवक्ति की प्रशंसा के लिए हार्दिक धन्यवाद ! नेपाल एक अलग देश अवश्य है, किन्तु वह भारत का सांस्कृतिक अंग है | नेपाली ‘भारोपीय परिवार’ की ‘भारतीय आर्य भाषा-शाखा’ की भाषा है ( कुछ विद्वान इसे ‘तिब्बती-बर्मेली’ समूह के अंतर्गत रखते हैं ) | उसकी गणना आधुनिक भारतीय भाषाओं में होती है, क्योंकि ‘खश’ अपभ्रंश से पहाड़ी भाषाएँ विकसित हुई हैं और ‘पूर्वी पहाड़ी’ की प्रधान बोली नेपाली ही है, जिसे ‘खसखुरा’ या ‘गुरखाली’ भी कहते हैं | नेपाली का अन्य आधुनिक भारतीय भाषाओं पर तथा आधुनिक भारतीय भाषाओं जैसेकि हिन्दी, सिंधी, राजस्थानी आदि पर नेपाली का यथेष्ट प्रभाव है | और तो और भारतीय संविधान की आठवीं अनुसूची में नेपाली को भी सादर स्थान दिया गया है | नेपाल की सत्ता अलग होने और नेपाल की राजभाषा होने से नेपाली का भारत के लिए महत्त्व कम नहीं हो जाता, बल्कि राजनैतिक और क्षेत्रीय दृष्टि से उसकी महत्ता हमें और अधिक प्रभावित करती है |

के द्वारा: Santlal Karun Santlal Karun

के द्वारा: Santlal Karun Santlal Karun

श्रद्धेय श्री संतलाल जी, सादर अभिवादन! आपको दुःख पहुँचाने का कोई इरादा न रखते हुए आपको हिलाने डुलाने/झकझोड़ने की इच्छा जरूर थी. राजनीति हम सब के जीवन का अहम हिस्सा है ..इससे हम अपने आपको अलग नहीं रख सकते ... आपने अपना मत दिया है साथ ही अपना मत (विचार) यहाँ प्रकट किया है. पर यह आम भाषा में न होकर बुद्धिजीवी की ही भाषा हो गयी ... मोदी जी ने जनता का नब्ज पहचाना और आम आदमी के भाषा का प्रयोग किया ...आम आदमी की भाषा में बिश्वास पैदा करने वाले ये पहले नेता नहीं हैं ... कांग्रेस से पीड़ित जनता आखिर क्या करती ? उसने अपनी बेहतरी के लिए मोदी जी को चुना है (एग्जिट पोल के अनुसार)... अब जरूरत है, मोदी जी को अपने वादे पर खड़े उतड़ने की... 'आम आदमी पार्टी' का भविष्य क्या होगा? यह मतदान में मिले उनके मत प्रतिशत पर निर्भर करेगा. मेरा मानना है कि जब तक अच्छे और इमानदार लोग चतुराई से राजनीति में नहीं आयेंगे, कीचड़ में या तो हाथ गंदे होंगे या कमल खिलेंगे ... बस मेरा तात्पर्य यही है ... सद्गुरुजी का आक्रोश उनके उस समय की मनोदशा पर आधारित है. कृपया अन्यथा न लें और हम सभी अपने विचारों की अभिव्यक्ति नि:संकोच करते रहें ... हम सभी एक दूसरे को समझाने, समझने की कोशिश करते रहें ... अगर हम कलम के माध्यम से कुछ लोगों को भी अपने विचार से प्रभावित कर पाते हैं, वही बहुत है. हम सभी अपने रोजगार से बंधे हैं और यह स्थिति नही है कि सक्रिय राजनीति में कूद पड़ें .... मैंने भी अपना विचार रक्खा है, आशा है इसे सकारात्मक लेंगे ...आप हम सबों में वरिष्ठ, ज्ञानी, बुद्धिजीवी, साहित्यिक हस्ती तो हैं हीं. सम्पूर्ण श्रद्धा के साथ. जवाहर .

के द्वारा: jlsingh jlsingh

आदरणीय संतलाल करुण जी ! हार्दिक अभिनन्दन ! आप मेरी आलोचना को अन्यथा मत लीजियेगा ! जिस रचनाकार की कृतियों से मुझे बहुत लगाव होता है मैं आलोचना भी सिर्फ उसी की करना पसंद करता हूँ ! मैंने आपको उकसाया केवल ये जानने के लिए कि-" अपने कार्य क्षेत्र से दूर जाकर न केवल स्वयं, बल्कि मेरे परिवार के सभी सदस्यों ने अभी ७ मई को मत दान किया है !" मुझे ये जानकर बहुत ख़ुशी हुई ! अधिकतर बुद्धिजीवी वोट डालने नहीं जाते हैं और घर बैठकर केवल कविता,कहानी और लेख के माध्यम से देश की भ्रस्ट व्यवस्था को कोसते हैं ! क्या इससे हमारे देश में कोई व्यवस्था परिवर्तन होगा,कभी नहीं होगा ! मैंने चुनाव के दौरान अनगिनत लोंगो को वोट डालने के लिए प्रेरित किया और १२ मई को मैंने और मेरे परिवार ने मतदान केंद्र जाकर वोट दिया ! मेरी नजर में आप इस मंच के उत्कृष्ट रचनाकार और वरिष्ठ बुद्धिजीवी है ! मैंने अपने कमेंट में जो कुछ भी कहा है,वो आप के माध्यम से देश के सभी बुद्धिजीवियों को कहा है ! आदरणीय सिंह साहब भी शायद यही कहना चाहते थे ! आपको अच्छी रचना के लिए बधाई ! आप लिखते रहिये ! अपने सादर प्रेम और शुभकामनाओं सहित !

के द्वारा: sadguruji sadguruji

आदरणीय जे.एल. सिंह जी, सच कड़वा होता है, पर लगता है मेरे कारण अब करुण भी होने लगा है | खैर.., मैं आप दोनों की बातों से सहमति-असहमति से अलग देख रहा हूँ कि आप दोनों ने मेरी कविता से अलग बहस छेड़ दी है | पर मैं यह नहीं समझ पा रहा हूँ कि मैं इतना बड़ा बुद्धिजीवी कब से हो गया (!) रही क्रांति-वांति की बात तो अपनी ऐसी कोई औकात नहीं, सामान्य-सा वोटर हूँ | क्या करूँ, आप दोनों की निराशा से ( मैं क्रांतिकारी बुद्धिजीवी जो नहीं हो पा रहा हूँ !) मैं भी निराश हूँ | आप दोनों फैसला माने न माने, आगे की नियति क्या होनी है, मुझे नहीं पता (?), पर मैंने और मेरे जैसे करोड़ों लोगों ने अपना मत दे दिया है | ब्लॉग पर आने और प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार !

के द्वारा: Santlal Karun Santlal Karun

आदरणीय सद्गुरु जी, टिप्पणी करते समय आप के मन में आक्रोश का कौन-सा इतना बड़ा घड़ा था, जो बेलाग इतने आरोपों के साथ मुझ पर फूट पड़ा, मेरे लिए अनुमान लगाना कठिन हो रहा है | हाँ, बौद्धिक जीविका के कारण मैं आप के आरोप का दोषी हूँ, पर ज्ञान के विशालतम क्षेत्र में बुद्धिजीवियों की श्रेणी में मैं अपने आप को कहीं नहीं पाता | स्वार्थी भी हूँ, इस आरोप पर विचार करने पर पाता हूँ कि मेरे कुछ परोक्ष-अपरोक्ष कृत्य जो नि:स्वार्थ भाव से चालित होते होंगे, वे ईश्वर की असीम कृपा के चलते होते होंगे | शेष शरीर और निजता के लिए खाना-पीना, पहनना-ओढ़ना, घर-मकान, नौकरी-चाकरी, आय-व्यय, बाल-बच्चे आदि का अधिकांश मेरे स्वार्थ को ही पोषित करता है | जहाँ तक कविता की बात है, तो यह दोषारोपण मेरे लिए नागपाश से कम नहीं है, इससे तो बच पाने का प्रश्न ही नहीं, ऊपर से मेरी कविता का असली अर्थ भी आम आदमी नहीं समझ पाएगा (?) अब बढ़ती उम्र के इस पड़ाव पर स्वयं और अपनी कविता को कहाँ और कैसे बदलूँ ? डॉ. हजारी प्रसाद द्विवेदी कृत ‘बाणभट्ट की आत्मकथा’ एक बेजोड़ तथा प्रशंसित उपन्यास है, पर उसकी समझ उच्च शिक्षित व्यक्ति के लिए भी कम श्रमसाध्य नहीं है, तब भी उस कृति की महत्ता बरकरार है | अन्यार्थ न लीजिएगा, मैं उनसे अपनी तुलना नहीं कर रहा हूँ, प्रबुद्ध पूर्वजों से प्रेरणा और सीख की चेतना विद्यार्थी जीवन से अवश्य रही है | नर्तक के समक्ष आखिर आँगन करे भी तो क्या करे, समझ में नहीं आता ? मेरे सामने आपने ऐसा ही विचारणीय प्रश्न दे दिया है | वैसे कविता जीवनगत परिस्थितियों के कारण मुझे से बहुत दूर हो चुकी है, बस बची-खुची राख-सी थोड़ी-बहुत ढो रहा हूँ और क्या करूँ जब-तब उसकी सुगबुगाहट से अपने-आप को बचा नहीं पाता, इसलिए कविता के कारण भी आप का कम दोषी नहीं हूँ | आप मुझे मेरी कविता से क्यों अलग करना चाहते हैं, मेरी समझ से परे है (!) धन-दौलत, घर-परिवार, रिश्ते-नाते सब के सब कहीं-न-कहीं चोट पहुँचाते हैं | एक कविता ही तो मेरी नितांत अपनी है, जो हर हाल में मुझे सुकून देती है | आप की भाषा में संतुष्टि के दोष से मुझे ग्रस्त करती है | यदि पढ़ा-लिखा हुआ होना बुरा होना है, तो इस आरोप के दण्ड से मुझे इस जन्म में मुक्ति मिलने से रही | आप ने याद दिलाया है तो सोचता हूँ कि दूसरे को हानि पहुँचाए बिना, बिना हलचल का सरल-निश्छल जीवन जीने की राह पर चलने का भरसक प्रयास करता आया हूँ तथा यह शतप्रतिशत सच है कि अब तक कोई क्रांति खड़ी न कर सका ? इसके लिए आज-कल की प्रतिभा-हीनता और वर्तमान जीवन-कौशल की कमी के अतिरिक्त मुझे दूसरा कारण समझ में नहीं आता | इस प्रकार स्वार्थ, मन की संतुष्टि का मैं महा दोषी हूँ, कोई विशेष यश-अपयश नहीं मिला यह संयोग की बात है | सद्गुरु जी, अंतत: आप के सारे आरोप शिरोधार्य हैं ( केवल एक विन्दु कि अपने कार्य क्षेत्र से दूर जाकर न केवल स्वयं, बल्कि मेरे परिवार के सभी सदस्यों ने अभी 7 मई को मत दान किया है )| फिर भी दुर्वासा-कोप के आगे मैं नम्रशिरष्क भाव से कृतज्ञ हूँ कि आप ब्लॉग पर आए और साहित्यिक गाली ही सही, मगर दिया तो कुछ-न-कुछ ! आप की प्रशंसा मिलती रही है, तो आलोचना भी मेरे लिए प्रसाद ही है | आप का बहुत-बहुत आभार !

के द्वारा: Santlal Karun Santlal Karun

आदरणीया संतलाल करुण जी ! सादर अभिनन्दन ! आपने कविता अच्छी लिखी है,परन्तु क्या घर बैठे कविता लिखने से कोई जनक्रांति हो जाएगी ? आप जैसे बुद्धिजीवी अपने जैसे किसी दूसरे बुद्धिजीवी को प्रभावित करते हैं,वहहि की अौपचारिकता होती है और बात खत्म ! फिर आप जैसे विद्वान लोग अगली रचना लिखने में व्यस्त हो जाते हैं.परन्तु इससे आम आदमी कहाँ प्रभावित हो रहा है.वो तो शयद आपकी कविता का असली अर्थ भी नहीं समझ पायेगा.अधिकतर बुद्धिजीवी अपनी रचनाओं से अच्छा सन्देश देते हैं,परन्तु व्यवहारिक रूप में जब अमल की बात आती है तो मतदान केंद्र तक वोट डालने भी नहीं जाते हैं.क्या सभी पार्टियों और नेताओं को अपनी रचनाओं में कोसने और गाली भर देने से उनके कर्तव्य की इतिश्री हो जाती है ?उनसे अच्छे तो अनपढ़ और कम पढ़ेलिखे लोग हैं जो वोट देकर भ्रस्ट नेताओं और सरकार को उनके पद से हटाने का प्रयास करते हैं.बुद्धिजीवी लोग वस्तुत: बहुत स्वार्थी होते हैं,जो किसी सामाजिक क्रांति के लिए नहीं बल्कि अपने स्वार्थ,मन की संतुष्टि और यश के लिए लिखते हैं.आज यही स्थिति देश के बुद्धिजीवियों की है.देश की दुर्दशा के लिए वो ज्यादा जिम्मेदार हैं.

के द्वारा: sadguruji sadguruji

के द्वारा: शालिनी कौशिक एडवोकेट शालिनी कौशिक एडवोकेट

अंतत: व्यूह-भेदक समाधान यह कि जैसे मूक, बधिर, नेत्रहीन, हाथ-पाँव से अपंग आदि विकलांगों के लिए विकलांगता का राजकीय प्रमाणपत्र चिकित्सा-विभाग द्वारा जारी किया जाता है, उसी प्रकार लैंगिक-यौनिक विकलांगता का पता चलते ही माता-पिता के माध्यम से अविलंब आवेदन किया जाना चाहिए और ऐसे विकलांगों को भी विकलांगता का प्रमाणपत्र प्रदान करने की व्यवस्था की जानी चाहिए | यह राज्य और समाज का कर्तव्य बनता है कि ऐसे विकलांगों की पहचान से लेकर समस्याओं के समाधान तक के समुचित उपाय किए जाएँ | इसके लिए उन्हें शिक्षा, प्रशिक्षण, व्यवसाय, नौकरी आदि क्षेत्रों में अपेक्षित सुविधाएँ देकर मुख्य सामाजिक धारा में शामिल करने में अब और देरी करना कतई ठीक नहीं | आदरणीय संतलाल जी बहुत ही सही सुझाव आपने पेश किया है ...वास्तव में यह चिंतनीय विषय है ...

के द्वारा: jlsingh jlsingh

आदरणीय संतलाल करुण जी , सादर अभिवादन ! एक ज्वलंत सामाजिक विसंगति पर आधारित एक अनुपम आलेख !वैसे उपेक्षित तथा समाज कटे लोगों के प्रति आप की चिंता आप की संवेदनशीलता की पराकाष्ठा को दर्शाती है ! विगत दिन विधान सभा के ग्लेक्सी हॉल में इसी विषय एक प्रतिष्ठित एन.जी.ओ ने पेंटिंग प्रतियोगिता का आयोजन किया था जिसमें मैं भी अपने महाविद्यालय के चार छात्रों के साथ गया हुआ था | वहाँ महाविद्यालय की एक छात्रा ने उक्त विषय पर ऐसा करुण अभिभाषण प्रस्तुत किया कि विधान सभाध्यक्ष की आँखें नाम हो गईं साथ ही पूरी की पूरी सभाषद् स्तब्ध रह गई ! वहाँ मैं भी मंच पर ही एक वक्ता के रूप में बैठा था ! आप की लेखिनी ने भी........... !!! हार्दिक बधाई !

के द्वारा: Acharya Vijay Gunjan Acharya Vijay Gunjan

आदरणीय सद्गुरु जी, आप लोगों का वैचारिक संबल ही उत्साह देता है, अन्यथा परिवार वाले कम्प्यूटर पर माथा-पच्ची से मना करते रहते हैं | फिर भी मन नहीं मानता और कुछ-न-कुछ होता रहता है | हिन्दी की टाइपिंग व्यवस्था आज तक कोई दुरुस्त न कर सका | आप 'कम्प्यूटर' टाइप करना चाहते हैं और टाइप होता है 'कम्प्युटर' | बाकी के चार ऑपशन, जिनमें से एक शुद्ध है नीचे रह जाते हैं -- कम्प्यूटर, कंप्यूटर, कम्प्यूटर्स और KAMPYOOTAR | इस तरह कितनी झुंझलाहट के साथ टाइपिंग हो पाती है, आप भी समझते होंगे | खैर ..., यह सब रोना-धोना अपनी जगह है | हम-आप तब भी अपनी रौ में ही जी रहे हैं | आप ने लेख को पढ़ा और विस्तृत टिप्पणी दी, उत्साह बढ़ाया ..सहृदय आभार !

के द्वारा: Santlal Karun Santlal Karun

आदरणीय संतलाल करुण जी,सादर हरिस्मरण,महाकवि दिनकर जी के महाकाव्य "उर्वशी" की समीक्षा आपने बहुत साहित्यिक और उत्कृष्ट ढंग से की है.आपके आलेख की कुछ पंक्तियाँ मन को छू गईं-वह निरभ्र आकाश जहाँ की निर्विकल्प सुषमा में न तो पुरुष मैं पुरुष, न तुम नारी केवल नारी हो; (उर्वशी) और निरंजन की समाधि से उन्मीलित होने पर जिनके दृग दूषते नहीं अंजनवाली आँखों को | (उर्वशी) वे भोगी और योगी दोनों हुआ करते हैं, यथावसर प्रेम और संन्यास दोनों मार्गों से गुज़रते हैं | उनके निसर्ग की महत्वपूर्ण पहचान यह भी है कि उनमें नारियों के प्रति सदैव आदर-भाव रहता है | उनमें सन्तान-प्रियता होती है तथा शिशुओं के प्रति अत्यन्त आकर्षण भी |आप इस मंच की शोभा बढ़ाने वालों में सदैव अग्रणी रहे है.हिंदी जगत कीआप बहुत बड़ी सेवा कर रहे है.डॉक्टर रंजना गुप्ता जी के एक कमेंट के जबाब में आपने मंच के प्रति निराशा भी प्रगट की है.ये मंच शुद्ध रूप से व्यवसायिक है.कभी कभी तो मैं देखता हूँ की जूते चप्पलों के सागर (यानि विज्ञापन) के बीच में हमारी रचनाएं तैरती हैं.इस मंच पर पाठक बहुत हैं.मैं देखता हूँ की जिस लेख को दो हजार से भी ज्यादा लोग पढ़ते हैं,उसे "ज्यादा पठित" पोर्टल में स्थान दिया जाता हैं.ये लेख वही होते हैं,जिनका आप ने जिक्र किया हैं.ये व्यावसायिकता हैं और मुझे लगता हैं की ये हमेशा चलती भी रहेगी.शुद्ध साहित्यिक लेख के पाठक हमेशा ही सिमित संख्या में रहे हैं और हमेशा रहेंगे.आप अपने शुद्ध साहित्यिक लेखों के द्वारा हमारे ह्रदय में हमेशा विराजमान रहे हैं और हमेशा विराजमान रहेंगे.इस आलेख के लिए आपको बहुत बहुत बधाई और कांटेस्ट के लिए मेरी और से ढेरों शुभकामनायें.

के द्वारा: sadguruji sadguruji

के द्वारा: अनिल कुमार ‘अलीन’ अनिल कुमार ‘अलीन’

के द्वारा: yatindranathchaturvedi yatindranathchaturvedi

के द्वारा: शालिनी कौशिक एडवोकेट शालिनी कौशिक एडवोकेट

के द्वारा: चित्रकुमार गुप्ता चित्रकुमार गुप्ता

के द्वारा: DR. SHIKHA KAUSHIK DR. SHIKHA KAUSHIK

के द्वारा: Acharya Vijay Gunjan Acharya Vijay Gunjan

आदरणीय जवाहर जी, आप इस पोस्ट तक आए, हार्दिक आभार ! आप बेहतर लिखते हैं, इसलिए लिखते रहिए | लिखते रहने से ही लेखन में निखार आता है | यह मंच तात्कालिक महत्त्व वाले लेखन के लिए अधिक ठीक है | विशेष रूप से राजनीतिक और सामजिक विषयों पर आधारित लघुकायिक आलेख यहाँ मूल्यवान साबित हों सकते हैं | आप का अधिकतर लेखन उसी श्रेणी का होता है | जहाँ तक मेरी बात है, तो मेरा लेखन जागरण जंक्शन के बहुत उपयुक्त नहीं होता | साहित्यिक सामग्री के लिए और श्रेष्ठ मंच अस्तित्व में आ गए हैं, पर वहाँ के लिए अधिक समय और सन्नद्धता चाहिए | अत: समयाभाव की वजह से आप लोगों के बीच रहता हूँ, वहाँ नहीं जा पाता | यदि कभी गया भी तो भी मैं जागरण जंक्शन नहीं छोडूँगा | यह समाचार तंत्र के बड़े संस्थान का ब्लॉग है | यहाँ की स्वतंत्रता बेजोड़ है और इसकी बहुत बड़ी ख़ूबी | सबसे बड़ी बात लिखते-पढ़ते रहने से एक सुकून मिलता हैं, जो घरेलू और सामाजिक झंझावातों को झलने की शक्ति देता है | आप का पुन: आभार !

के द्वारा: Santlal Karun Santlal Karun

श्रद्धेय महोदय, सादर अभिवादन! आपने जिस तरह हरेक के ब्लॉग का अद्ध्ययन कर सभी सम्मानित ब्लॉगरों का मान बढ़ाया है, वह आप ही कर सकते थे. बहुत ही सुन्दर तरीके से आपने लगभग सभी उच्चकोटि के ब्लॉगरों का जिक्र करते हुए, जिन दशनानों का चुनाव किया है और सब पर अपनी पैनी टिप्पणी की है, वह भी आप ही कर सकते थे. आपकी सूची में अपना नाम देखकर मैं फूला न समा रहा हूँ.... वस्तुत: मैं पहले छोटे मोटे लेख लिखकर अपने आसपास के लोगों को सुनाकर या स्थानीय पत्र पत्रिकाओं में छपने का प्रयास करता था. पर जागरण के इस मंच पर जब से मेरा पदार्पण हुआ बहुत सारे पुराने ब्लोग्गर्स ने मेरा हौसला बढ़ाया ..छोटी मोटी गलती का सुधार भी करवाया. उन सभी आदरणीयों का मैं ह्रदय से आभार व्यक्त करता हूँ. उनमे काफी लोग अब उतने सक्रिय नहीं रहे ...कारण बहुत सारे हैं, जिनसे आप भी परिचित हैं और आपने उनका भली भांति उल्लेख भी किया है. ... आपसे मेरी करबद्ध प्रारथना होगी कि आप इस मंच पर बने रहें और हम सबकी लेखकीय त्रुटि पर ध्यान देकर सुधार का अवसर भी प्रदान करते रहें! ....आपका हार्दिक अभिनन्दन !

के द्वारा: jlsingh jlsingh

आदरणीय प्रवीण जी, आप ब्लॉग पर आए और लेख पढ़ा, मुझे अच्छा लगा, आप का सहृदय आभार ! आप की प्रतिक्रिया से मैं यह भी जान पाया कि लेख में उठाए गए तथ्यों से आप और कुछ अन्य मित्रगण पहले से ही भली-भाँति अवगत हैं | एक बार पहले भी आप ने भारत मित्र मंच का लिंक दिया था | मैं मंच पर आया भी था | तब शायद मंच आरंभिक चरण में था | मेरी समस्या दूसरी है, समयाभाव--- ओबीओ पर एकाउंट बनाए कई महीने हुए, पर एक भी पोस्ट न डाल पाया | कविता कोश और गद्य कोश में रचनाएँ भेजने की मेरी योजना साल-डेढ़ साल से खटाई में पड़ी है | जो समय मिलता भी है, वह जागरण में ही खप जाता है | यदि मैं मंच पर आऊँ और बहुत शिथिल गति में रहूँ, कभी-कभी ही रचनाएँ पोस्ट कर पाऊँ, तो भी तो आप लोगों को अच्छा नहीं लगेगा | जागरण जंक्शन सांस्थानिक है, उसमें जाएँ न जाएँ किसी को क्या पड़ी है, पर भारत मित्र मंच परस्पर मैत्री भाव से आप लोगों ने चलाया है, इसमें मेरा गाहे-बगाहे आना अच्छा नहीं होगा | हाँ, मंच की रचनाएँ मैं जरूर पढ़ता रहूँगा | आप सभी मित्रों को मेरी शुभ कामनाएँ हैं | मंच को समृद्ध कीजिए और आगे बढ़ाइए |

के द्वारा: Santlal Karun Santlal Karun

आदरणीय सद्गुरु जी, आलोचना की अनुतान में मेरे द्वारा आप की आत्मकथा के सम्बन्ध में जो कुछ भी कहा गया, निवेदन है कि उससे मन छोटा न करें | आप के प्रति मेरे हृदय में बहुत सम्मान है | आप को हतोत्साहित करना मेरा कतई उद्देश्य नहीं था, बल्कि जब आप ने डायरी से आप बीती को बाहर का रास्ता दिखा ही दिया है, तो उसे और विस्तार दें, सभालें, पुनर्लेख करें और पुस्ताकाकार रूप में प्रकाशित कर पाठकों के लिए सार्थक बनाएँ | साहित्य में आलोचना-कर्म निंदा के लिए होता ही नहीं, वह तो साहित्य को और सार्थक बनाने और उसे स्थापित करने के लिए होता है | मैंने इसी उद्देश्य से आप की चर्चा की है और आप ‘सरवाइकल स्पॉन्डिलाइसिस’-जैसी बीमारी को झेलते हुए और 'सरवाइकल कॉलर' लगाकर इतना कुछ लिख पाते हैं, जो जूनून तथा अत्यंत रुचि से ही संभव हो सकता है, जिसे मैं अच्छी तरह समझता हूँ | दूसरे आप अच्छा लिखते हैं और निरंतर लिखते जाने से लेखन में निखार आता है | आप ने जितना लेखन अल्प समय में प्रस्तुत किया वह सब के बस की बात नहीं | तीसरे आप का कहना सही है कि कम-से-कम 50 श्रेष्ठ ब्लॉगर मंच पर होंगे | पर ऐसे सभी ब्लॉगरों पर विस्तार से चर्चा संभव न थी | मुझे यह पोस्ट ब्लॉग पर डालने के लिए नाकों चने चबाने पड़े--- बड़े फॉण्ट में पोस्ट बार-बार प्रयास करने पर भी जब सेव नहीं हो पाई, तो फॉण्ट छोटा करना पड़ा, फिर भी पोस्ट स्वीकार नहीं हुई, तो लेख को दो पोस्ट में बाँटने का मन हुआ,किन्तु दो चरणों में खंडित तारतम्य मुझे भाया नहीं, फिर आलेख पर कैंची चलानी पड़ी तथा कुछ वाक्यों और अनुच्छेदों को अनिच्छा के बावजूद हटाना पड़ा | ऐसे में जिससे चार-छह बच्चे भी न सँभाले जाते हों, वह मोहल्ले भर के बच्चों को कैसे सँभाल सकता है ? इसलिए अपनी सीमा और अल्पज्ञता के लिए मैं क्षमा-प्रार्थी हूँ | यह भी कि मुझे बहुत अच्छा लगा कि आप ने लेख पर विस्तृत प्रतिक्रिया व्यक्त की और अपने विचार रखे | आप का बहुत-बहुत आभार एवं हार्दिक साधुवाद !

के द्वारा: Santlal Karun Santlal Karun

आदरणीय संतलाल करुणजी,शुभप्रभात.आपका पूरा लेख मैंने दो बार पढ़ा.आपने बहुत अच्छा आलोचनात्मक लेख लिखा है और जागरण मंच के दस सर्वश्रेष्ठ दशानन ब्लॉगरों को चुना है,जो की सौ प्रतिशत सही है.मेरी ओर से इन सभी ब्लॉगर मित्रों को बधाई.ये जागरण के दशानन सदैव अपना सर्वश्रेष्ठ लेख इस मंच को देते रहें,यही मेरी भी कामना है.इस दशानन मण्डली में आप भी शामिल हैं.आपके बिना इस मंच की शोभा ही अधूरी है.अब तो जागरण मंच के लिए दशानन शब्द एक संकीर्ण पात्र बन चूका है,क्योंकि आज के समय में कम से कम पचास सर्वश्रेष्ठ ब्लॉगर इस मंच पर होंगे.किसी भी ब्लॉगर की सभी रचनाएं सर्वश्रेष्ठ नहीं होती हैं और किसी भी ब्लॉगर की सभी रचनाएं कूड़े में फेंकने लायक भी नहीं होती हैं.यही वजह है की दस सर्वश्रेष्ठ ब्लॉगर चुनना या किसी ब्लॉगर की आलोचना करना एक बहुत कठिन काम है.मैं आपके साहस की सराहना करता हूँ.आपको इसके लिए मेरी और से हार्दिक बधाई.अंत में बहुत विनम्रता के साथ अपनी थोड़ी सी चर्चा करूँगा.मैं इस सच्चाई को स्वीकारता हूँ कि मैं लेखन विद्या में अभी पूरी तरह से पारंगत नहीं हूँ.मैं कोई अच्छा कवि या साहित्य्कार नहीं हूँ,बस समाज को कुछ विषय विचारने को दे देता हूँ.मैं अभी आपलोगों से हिंदी में साहित्य लिखना सीख रहा हूँ.जिन महान लेखकों के आत्मकथा का आपने उल्लेख किया है,उनमे से कुछ की मैंने पढ़ी है.मैं अपनी आत्मकथा का बहुत इच्छुक नहीं था,लेकिन पुरानी ख़राब होती डायरी की हालत देखकर लिख दिया.मैंने अपने जीवन की सभी प्रमुख घटनाओं को उसी रूप में प्रस्तुत करने की कोशिश की है.मेरी रचना के बारे में आपने जो कुछ भी कहा है,उसे मैं स्वीकारता हूँ और आपको ह्रदय से धन्यवाद देता हूँ.आपके लेख आलोचनात्मक दृस्टि से भी देखें तो अपने आप में सम्पूर्ण और एक बहुत अच्छा लेख.मेरी और से आपको बधाई.

के द्वारा: sadguruji sadguruji

आदरणीय सद्गुरु जी, ब्लॉग पर आने और प्रसंशा भरी प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार ! जहाँ तक आप का प्रश्न है, तो नारी द्वारा बलात्कार की चर्चाएँ सुनने में आती रही हैं, पर इस प्रसंग में मेरा मत कुछ भिन्न है | कामशास्त्र और मनोविज्ञान दोनों दृष्टियों से नारी पुरुष की अपेक्षा स्थिर होती है | कानून की दृष्टि में बहलाना, फुसलाना, बरगलाना अपराध हो सकता है, किन्तु ऐसी परिस्थितियों से प्रभावित होकर उम्र के हिसाब से सक्षम नारी के जननांग सहवास के लिए तैयार हो सकते हैं | ऐसे मामले में थोड़ी देर के लिए क़ानून से हटकर कामासक्त नर-नारी का सम्मेल बलात्कार नहीं हो सकता | यही बात पुरुष पर भी लागू होती है, परिस्थितियाँ बुनकर यदि कोई नारी किसी पुरुष को उत्तेजित करने में सफल हो जाती है और सहवास करती है, तो उसे बलात्कार कैसे कहा जा सकता है ? नारी के प्रमुख जननांग सपाट होते हैं, बिना शरीर के तैयार हुए पुरुष द्वारा बलपूर्वक प्रयासों से उसे गुप्तांग के छिन्न-भिन्न हो जाने तथा असह्य शारीरिक-मानसिक-आत्मिक पीड़ा से गुजरना पड़ता है, जबकि पुरुष बिना लिंगोत्थान के सहवास कर ही नहीं सकता | इसलिए अंत: या बाह्य किसी भी प्रभाव से पुरुष में लिंगोत्थान का आना उसके द्वारा सम्भोग के लिए तैयारी का परिचायक है, फिर उसे कोई पीड़ा नहीं होगी, उलटे शारीरिक आनंद की स्थिति में बलात्कार कैसा ? हाँ, अनर्गल संबंधों में बाद में मानसिक क्षोभ हो सकता है, किन्तु सम्भोगेच्छा और लिंगोत्थान के उपरान्त नारी द्वारा कराए गए यौनिक संपर्क को बलात्कार कहना उचित नहीं | वैचारिकता के लिए हार्दिक साधुवाद !

के द्वारा: Santlal Karun Santlal Karun

आदरणीय संतलाल करुणजी,आश्चर्यजनक रचना.पहली बार मैंने एक अनोखी लघुकथा पढ़ी है.लेखन में नए प्रयोग करने के लिए बधाई.यहाँ एक समस्या भी है कि बलात्कारी यदि पुरुष न होकर कोई महिला हो तब क्या होगा ?इस कटु सत्य को अपने जीवन मैंने महसूस किया है कि महिलाएं भी बलात्कार करती हैं,लेकिन उसकी चर्चा नहीं होती है और समाज में हमेशा पुरुषों को ही बलात्कार का दोषी ठहराया जाता है.आपके लघुकथा की विशेष पंक्तियाँ-हम तीनों आप के मनोनीत बन्दर हैं और जनता के विश्वसनीय प्रतिनिधि| हम हमेशा राजदरबार में माटी की मूरत की तरह बैठते हैं| हम में से एक अपनी आँखों को दोनों हाथों से बंद किए रहता है, दूसरा अपने कानों को और तीसरा अपने मुँह पर दोनों हाथ रखे रहता है|एक बार पुन: बधाई.

के द्वारा: sadguruji sadguruji

के द्वारा: DR. SHIKHA KAUSHIK DR. SHIKHA KAUSHIK

आदरणीय सर, नमस्कार, दरअसल आपका ब्लॉग है तो मैं सीधे कुछ कहने में संकोच कर रही थी लेकिन इन बच्चों कि बातें पढ़ कर लगता है कि शायद हम कुछ बिंदु छोड़ देते हैं...आपका कहना बिलकुल सही है कि प्रकृति के क्रूरतम अत्याचारों में से शारीरिक विकलांगता भी एक है..चाहे वो किसी भी अंग की हो या हार्मोनल हो ..आज भी समाज का एक बड़ा वर्ग विकलांगों के ऊपर तरस खा कर उन्हें और भी हीनता से भर देता है....हीन भावना के कारण उपजे तनाव से एड्रेनैलिन हार्मोन बनता है जो तनाव को बीमारी में बदलता है...इस हार्मोन के प्रभाव को कम करने के लिए शारीर को नॉर एड्रेनैलिन नामक हार्मोन बनाना पड़ता है...studies say that orgasm is the easiest and shortest way to release the anti stress hormones...Unfortunately sexual impaired people lack this way of stress busting so they try to find other ways and sometimes deviate.....मैं भी इस मुद्दे पर इन बच्चों से यही कहना चाहूंगी कि कुदरत से कोई नहीं लड़ सकता...अप लोग खुशकिस्मत हैं कि हाथ, पैर , आँख और कान रखते हैं, बोल सकते हैं और सब से बड़ी बात कि आप के माता पिता आपके साथ हैं जिन्होंने आप को इतनी अच्छी शिक्षा दिलायी ...आपकी इंग्लिश और भावना अभिव्यक्ति का तरीका काबिले तारीफ है..क्या हुआ कि प्रकृति ने भूल कर दी...हम सब आपके सहयोगी हैं.. अपनी ऊर्जा को अच्छे कामों में लगाइये...संविधान की तरफ से आपको सभी मौलिक अधिकार प्राप्त हैं....किताबें पढ़ना और संगीत का साथ तनाव से मुक्ति में रामबाण औषधि है..खुद पूर्व राष्ट्रपति कलाम इतने व्यस्त होते हुए भी रोज़ रात में वीणा बजाते हैं... शेष आपकी हर तकलीफ में और जायज़ मांगों में हम आपके साथ हैं.......

के द्वारा: sinsera sinsera

आदरणीया सरिता जी, मैंने आप का "जहाँ वाले हमें दुनिया में क्यूँ पैदा किया तू ने…" आलेख ध्यानपूर्वक देखा और माफ़ कीजिए हठात उक्त शीर्ष-प्रश्न कुछ इस तरह मेरे सामने आ खड़ा हुआ --- "जहाँ वाले हमें दुनिया में क्यूँ पैदा किया तू ने, हम इस अभिशाप को वरदान में ढालें कैसे ? " और ज़वाब भूतपूर्व राष्ट्रपति डॉ. कलाम के इन शब्दों में निहित है --- ” I’m not a handsome guy, But I can give my, Hand to-Some-one, Who needs help. ” और यह भी कि अनेक ऐसी हस्तियों के उदाहरण हैं कि उनहोंने सामाजिक कार्यों में समर्पण के लिए दाम्पत्य जीवन को अपनाया ही नहीं, जैसे कि भूतपूर्व प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, उपर्युक्त सहायता-भावना के सहृदयी स्वयं डॉ.ए.पी.जे. अब्दुल कलाम आदि | यह भी कि बहुतों का दाम्पत्य जीवन यदि बीच में खंडित हो जाता है, तो क्या वे दाम्पत्य प्रेम को व्यापक प्रेम में परिणत कर सम्मानजनक जीवन नहीं जीते ? इसलिए आंगिक रूप से अक्षम किन्नर-समाज को प्रेम के और सारे उदात्त और व्यापक संबंधों को छोड़कर उसी शारीरिक संबंध की ललक और ज़िद आखिर क्यों है, जिसके लिए वे प्रकृति की ओर से अभिशप्त तथा अक्षम हैं ! अतएव समाज, शासन और स्वयं किन्नर वर्ग को मिलकर इस अभिशाप को वरदान में बदलने का सही रास्ता यही है कि वे अपने एकाकीपन को सामाजिक सेवा में समर्पित करें तथा समाज उन्हें आगे बढ़ाए और स्वीकारे; न कि यौनिक विसंगति की अपनी कमी पाटने के व्यतिक्रम में किन्नर-समाज विलासिता और घातक रोगों को न्योता देने और उसे समाज में फैलाने का रास्ता अख्तियार करें | लिंक देने के लिए हार्दिक आभार !

के द्वारा: Santlal Karun Santlal Karun

आदरणीया सरिता जी, आप का सम्बंधित आलेख प्रशंसनीय, पठनीय और भली-भाँति विचारणीय हैं | पर जब तक स्वयं किन्नर जमातों तथा समाज परस्पर दोनों ओर से इस विसंगति के विरुद्ध सामाजिक अभिकर्ता पैदा नहीं होंगे और किन्नर इस अभिशाप को स्वीकार करके सात्विक जीवन शैली के लिए आगे नहीं बढ़ेंगे, तब तक इनके पक्ष की मेरी, आप की और सब की सारी बातें सिर्फ़ बातें ही रहेंगी | न तो इनके विकृत भोग की ज़िद जायज है और न ही समाज द्वारा इनके प्रति उपेक्षा और किसी तरह का दुर्व्यवहार | कुत्सित पुरुषों द्वारा इनके प्रति यौनिकता को बलात्कार की श्रेणी में दंडनीय अपराध माना जाना चाहिए | इनके द्वारा व्यंग, विद्रूपता, हास-परिहास चार पैसे के लिए अनुचित नहीं है और समाज द्वारा इनकी उचित शिक्षा-प्रशिक्षण, काउंसलिंग आदि से इनके अश्लील दुर्व्यवहारों को भी दूर किया जा सकता है और इन्हें समाज की मुख्य धारा से जोड़ा जा सकता है | पर वह मंजिल अभी दूर है, इनके प्रति समाज और शासन अभी उतना चेता नहीं है और उल्टे ये अय्यासी और अप्राकृतिक घिनौने यौनिक भोग के अधिकार की माँग पकड़े हुए हैं | न्यायालय से नहीं, तो अब संसद से अपना उल्लू सीधा करना चाहते हैं | आप बताइए, इनके ऐसे असामाजिक, अश्लील, अप्राकृतिक और हमें, आप और सब को शर्मसार करनेवाले कुकृत्य का समर्थन कैसे किया जा सकता है ! ब्लॉग पर आने और इतने महत्त्वपूर्ण ब्लॉग का लिंक देने के लिए हार्दिक आभार !

के द्वारा: Santlal Karun Santlal Karun

आदरणीय bebak rai / ramesh 1234 / Hellow World ! जी, पहली बात, अवरुद्ध मूत्र मार्गी बच्चा जन्म के बाद अधिक दिनों तक जीवित नहीं रह सकता | मैंने देखा है कि ऐसे बच्चे का ऑपरेशन करके मूत्र मार्ग ठीक कर दिया जाता है | दूसरी बात, किन्नर अर्द्धलिंगी ( स्त्री या पुरुष ) होते हैं, जिनका मूत्र-मार्ग तो प्राकृतिक रूप से खुला होता है, पर आगे चलकर बड़े होने पर सम्भोग की दृष्टि से विकसित नहीं होता | उन्हें यौनिक विकलांग कहा जा सकता है | वे स्त्री या पुरुष दोनों रूपों में सम्भोग और प्रजनन के लिए सक्षम नहीं होते | आज जब शिक्षा का दरवाजा हर जाति-वर्ग, धर्म-सम्प्रदाय, लड़का-लडकी सब के लिए समान रूप से खुला है, तो किन्नर बालक-बालिकाओं के लिए कोई अवरोध नहीं है | शिक्षित होकर और अच्छे पेशे को अपनाकर किन्नर ( स्त्री या पुरुष ) धन और ख्याति दोनों के भागीदार क्यों नहीं हो सकते ? पर सम्भोग और प्रजनन के लिए अक्षम किसी किन्नर को आंगिक रूप से सक्षम किसी व्यक्ति का वैवाहिक पार्टनर बनने की अनुमति क़ानून कैसे दे सकता है ? साथ ही आंगिक रूप से दो सक्षम पुरुषों या दो सक्षम स्त्रियों को परस्पर शारीरिक सम्बन्ध ( समलैंगिक सम्बन्ध ) की अनुमति किसी भी संवैधानिक राष्ट्र के लिए और उससे जुड़ी समस्त आवासीय मानव जाति के लिए जैविक और वैधानिक दोनों दृष्टिकोणों से पूर्णत:अनुचित और आपराधिक है | आदरणीय या आदरणीया आप जो भी हों, व्यकिगत आक्रोश में आकर आप शाप-अभिशाप की भाषा से न तो यह जीवन और न ही अगला जीवन सँवार सकते हैं | हमारे देश के भूतपूर्व राष्ट्रपति डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम साहब का कहना है -- " I'm not a handsome guy, But I can give my, Hand to-Some-one, Who needs help. " इसीलिए कलाम साहब और उनके-जैसों का, हमारा और आप का भी जीवन किसी के शाप-अभिशाप पर नहीं, बल्कि हम सब की अपनी-अपनी इच्छा-शक्ति, जिजीविषा और उसके क्रियान्वयन पर निर्भर करता है | ब्लॉग पर आने के लिए हार्दिक आभार !

के द्वारा: Santlal Karun Santlal Karun

आदरणीय/आदरणीया someone जी, आप की उम्र 23 है और आप के जीवन का बहुत कुछ गोपनीय है | आप से मेरी बड़ी सहानुभूति है | स्वयं के प्रति आप की तकलीफ और चिंता जायज है | मेरी समझ से दुनिया की सभी सरकारों को अंधे,मूक, वधिर आदि विकलांगों के साथ यौनिक विकलांगों की श्रेणी को मान्यता देकर उनकी शिक्षा-दीक्षा आदि का प्रबंध करना चाहिए और समाज की मुख्य धारा से यौनिक विकलांगों ( किन्नरों ) को जोड़ने की व्यवस्था करनी चाहिए | शिक्षित-दीक्षित होकर किन्नर सेक्स को छोड़कर दुनिया के लगभग सारे काम -काज बखूबी कर सकते हैं और समाज का हिस्सा हो सकते हैं | किन्तु यदि उनकी जिद विकृत भोग की है, तो उसकी इजाज़त इस देश में नहीं दी जा सकती | जहाँ तक आप का प्रश्न प्रेम का है, तो माता-पिता, भाई-बहन, अन्य तमाम रिश्ते-नाते, पेड़-पौधे, नदी-पहाड़ और पृकृति के नाना उपादान भरे पड़े हैं प्रेम के लिए | शेष ब्लॉग पर आने के लिए हार्दिक आभार !

के द्वारा: Santlal Karun Santlal Karun

के द्वारा: someone someone

Mister, Please read my comment in full !!! please please please ! and also reply as soon as possible ! I want to know your reaction to this. What "REAL" you know about gays or lesbians ? Let me tell you my story. Its pretty much same as other gays in this country and the world. First thing you need to know is that being a homo is not a choice. Trust me. If it was, Millions of people around the world wouldn't have chosen it. Its no fun being a homo. I can tell you because I am one. We gays live a miserable secret life. Pretend to be straight for the sake of society. Because we know, no one accept the real us, or real me. Always scared about our little secret. Because we know, once its out, we gonna loose everything and everyone. Our friends, our parents, jobs, respect everything. I realized I was gay when i was a teenager. Back then and sometimes today also, I used to cry almost every night very silently before sleeping, scared, thinking about what i'm gonna do with my life, what i'm gonna be, no one's gonna understand me, about my parents and friends reaction etc. But no one ever heard me crying. I wished there was someone, who could understand me, tell me, you have nothing to fear about, i'm with you. But no one ever did. Now, I'm 23, gay, but more matured than before. I never had sex with any other guy yet. Because, I know, sex is not the only thing to do. Being gay doesn't ONLY mean to get in bed with other gay guys. Its just something what other people think gays do. But they don't. We actually have real feelings for the boys, the feelings of love. We can't make ourselves feel this way for girls. Yes, girls are nice good friends but we or I never felt them the way i feel for boys. The way you must have felt the very first moment you saw your wife. I've been in love, but never had the strength to ask the guy i love, all because to keep that little secret, secret, that I'm gay. You must be very brave when you are gay to tell the person you love ! Surely, sex is a vital part of everyone's life. You had that too. Everyone does that. And everyone does that differently. And as far as sex and Indian culture are in question, Kamasutra was written in India, which describes 64 types of sexual acts. And which are followed by whole world ! Yes, sex between two boys may sound nasty for a straight person, but imagine explaining sex to a 10 year old boy, Even straight sex will sound pathetic to him. I hope you get my point, that i'm trying to prove here. But for gays, sex between boys is more than normal. I can tell you more but i don't know if you are getting what i'm trying to say or not. All I want to say is that, whatever you think about homosexuals, please keep it to yourself. This world is already a hard place for us, don't make it more harder for us to live by spreading more hate through your articles. If you can't write anything in favor, please don't write anything against us. We are gays or homos, we can't change no matter how bad we want to. This life chose us, we didn't chose this life. We just try to live it without thinking it as a curse. We just try to enjoy our life they way its given to us.

के द्वारा: someone someone

Saadar pranam santal kumar ji Please ise ek baar padhiyega jaroor aapke bete ki umar ke ek 17 saal k ladke ki request h aap se *********** Mera maanna tha ki kavita sarvottam madhyam h insaniyat k sandesh logo tak pohchane ka ...aur aapne jis andaz me ye kavita kahi h...ya to insaniyat ka matlab hi badal daalti h ya fir kavita ka yhi upyog hota h.... Aapne hawas shubd ka istemal kiya yahan ..... aap jaante h homosexuality ka matlab? Homosexuality ek homosexual insan k liye utni hi gundi h jitni aapke liye heterosexuality ...agar aapka apni patni k prati prem hawas h to ye kavita ek dum shi h......ji haan homosexual logo ko b pyar hota h...sirf hawas k liye nahi h ye sa .....kya ye shi h ki aap bus ghrinit pahloo dekhe aur baaki sabhi pahloo nakar de? ********* Par fir b pyar hota b h to kya? Ye nature k khilaf h ? Sansarg to kisi dusre k jeevan ki shuruaat k liye h...aur yahan aisa nhi hota ---------In 2 udharno ko lijiye 1). Ek brothal me hone wala sansarg ..aur savdhani na hone k chalte bacche ka janam 2). Kisi pati patni k beech sansarg...par patni maa nhi bun sakti Pahle udhaharan me bacche ka junam h.... par kya wo shi h ? Nhi kyunki wahan pyar nhi h.... Dusre udhaharan me bacche ka junam nhi par kya wo gulat h ? Nhi kyunki wahan pyar h Hur wo sansarg shi h jhan pyar h.....pyar k saamne ghrina nhi tikti....jub muje pahli baar sansarg ki prakriya ka pata chala tha (heterosexual prakriya halaki muje homosexual wali ab bhi thodi ajeeb lagti h...aur sabhi homosexual isme shamil nhi hote) to muje bhi ghrina huyi thi par uske baad muje pyar dikha aur aaj muje ghrina nhi h....muje sambhog nhi prem dikhta h. kyun aapko pyar nhi dikhta? kyun durd nhi dikhta? kyun hum in gande basis par rishto ko judge kurte h....kya hamare jayaz nazayaz k siddhant shi h.... " jo dil khoja aapna mujsa bura na koye" Khud sochiye kya bhugwan aapki seat swarg me bus isliye reserve kur denge kyunki aap Purush sexual part ko stri waale ....( main aage nhi likh sakta) ..aur muje wo nark bhejenge kyunki main aisa nhi kur sakta kyunki ye mere liye bhayanak h..... Kya aap jaante h Vishnu ji aur Shiv ji ka b ek beta tha ...Ayappan .....aap shikhandini aur kayi auro ko kaise bhool gye ? Main janta hoon ki aap ke liye homosexuality ab bhi bhayanak h par ek cheez sochiye bus isliye ki ye heterosexual logo ko hazam nhi hota ...ye gulat h ? ....Aur waise b jub ek 17 saal ka ladka ghrina ko chor prem dekh sakta h to bade log kyun nhi...... heterosexual log kyun nhi ********* Agar bhugwan aur prakriti iske khilaf h to unhone kyun muje janam diya...kum se kum muje is nark saman jeevan se mukti to mil jaati....... haan shayad isliye ki bhugwaan 12 saal ki umar se marte dum tak muje tadpana chahte h.... logo ki gaaliya...mummy papa ki bejiti ka karan banana chahte h.....apne chote bhai k saamne neech rakhna chahte h....shayad wo muje mahsoos kurwana chahte h ki meri class me apni girlfriends k saath ghumne waale ladke mujse behtar ...aur muje b ye dikhane k liye ki main un ladko jaisa hoon....un ladkiyo ke saath wahi kaam kurne honge ..... chahe ho wo muje andar tak tbah kur de....chahe main kitna hi pratibhawaan kyun na hoon...chahe kitna accha insaan kyun na hoon ....hoon to gay hi na ( na jane kis wajah se par kya fark padta ....shayad isliye kyunki library me rakhi india today magazine me ladkiyon ki aisi vaisi tasveer ko dekh ulti sidhi baato ka maza lena main nhi jaanta) oh haan shayad mera ilaaz kurwa theek kurne k liye....par jis medical science ka sahara lekar ye ho sakta h wo kahti h ki ye bimari nhi h...ki ye dusre jivo me b h...ki ye evolution ka ek charan h..ki ye b natural hi h...ki mere dimag k kuch hise mahila k dimag se milte h ....ki ye shi nahi kiya ja sakta) mere mummy papa jhad fook kurwa rhe h 1.5 saal se abi tak uska bhi koi nateeja nhi shayad maim gulat hoon....par aapne socha h ki agar aap gulat h to aap kya kur rhe h....kitne hi aise baccho ka jeevan ...bhugwaan ka sabse sundar uphar tbah kur rhe....unks jeevan nark kur rhe h...aur shayad wo apne jeevan se beech me hi mukt ho jaayengey...kabi socha h ki agar hum thik ( agar bimar bhi h to) nhi ho sakte h to aap kya kur rhe h? nafrat ya ghrina vikalp h.....mere saamne homosexuality kabi vikalp k roop me bhugwaan ne nhi di......bus de di aapke bete k samaan hoon meri jindagi aisi tbah mat kijiyा

के द्वारा: ankurantil ankurantil

आदरणीय संतलाल करुण जी,कई महीने बाद आप की कोई रचना पढ़ने को मिली है.आप का मंच पर हार्दिक स्वागत है.आप ने सही कहा है-समलैंगिकता अपराध ही नहीं, महा अपराध है, मानवता के प्रति कलंक है, असामाजिक संसर्ग है, दुराचार है, व्यभिचार है और कामान्धता में किया जानेवाला प्रकृति के विरुद्ध घोर नकारात्मक दुष्प्रयोग भी | विवाह और सम्भोग अपेक्षित मर्यादित भोग की श्रेणी में आता है; किन्तु समलैंगिकता निश्चित ही विकृत भोग है !मुझे आश्चर्य हो रहा है कि इस देश के नेताओ और अभिनेताओं को क्या हो गया है,समलैंगिकता रूपी अप्राकृतिक सम्बन्ध का समर्थन कर रहे है.इसकी आड़ में नाबालिग बच्चों का कितना शोषण हो रहा है ?यह किसी ने सोचा है ?

के द्वारा: sadguruji sadguruji

के द्वारा: bhanuprakashsharma bhanuprakashsharma

आदरनिय संतलाल करुण जी.सादर हरि स्मरण! आप का ये आलेख " ‘ब्लॉग शिरोमणि’ पुरस्कार सितम्बर’ 13 : एक अपेक्षित स्पष्टीकरण" पढ़कर मुझे बहुत दुःख हुआ.ये स्पष्टीकरण आपको नहीं देना चाहिए था.आप को सफाई देने क्या जरुरत है.जागरण जंक्शन मंच पर मुझे तो आप के खिलाफ एक भी कमेंट पढने को नहीं मिला.इस मंच पर एक श्रेष्ठ कवि और श्रेष्ठ साहित्यकार की आप की छवि है.आप से लोग प्रेरणा लेते हैं.आप की शुद्ध हिंदी से मैंने भी प्रेरणा ली है.आप सफाई देकर पुरस्कार की महत्ता को क्यों कम कर रहे हैं?ब्लॉग शिरोमणि’ पुरस्कार हेतु आप की चयनित रचना ‘हिन्दी ब्लॉगिंग : नए दौर में सोशल नेट्वर्किंग की आलेखमुखी विधा" से बेहतर कौन सी रचना है?यदि ब्लॉग शिरोमणि के चयन हेतु वोट कराया जाता तो मै आपको ही अपना वोट देता.आप कृपया कोई सफाई मत दीजिये.ब्लॉग शिरोमणि बनने के लिए आप ने अपना चुनाव नहीं किया है.आप प्रतियोगिता के जजों द्वारा चुने गए हैं.आप ऐसा कहकर सब को एक गलत सन्देश दे रहें हैं कि "मैं विश्वासपूर्वक स्पष्टीकरण के साथ घोषणा करता हूँ कि ‘जागरण जंक्शन परिवार’ से मेरी कोई जान-पहचान नहीं है और न ही उनके किसी सदस्य आदि से मेरा किसी तरह का सम्बन्ध है"ये सब आप को नहीं कहना चाहिए.अपने आलेख के आखिर में पुन: आपने बहुत कष्टदायी और गलत बात कही है कि "हाँ, अच्छा हुआ, पुरस्कार अभी तक, मुझ तक पहुँचा नहीं है | बद अच्छा बदनाम बुरा से लाख अच्छा तो यही है कि यदि उस पुरस्कार को ‘जागरण जंक्शन’ द्वारा मेरे अतिरिक्त किन्हीं और भाई-बहन को प्रदान कर दिया जाए, तो मुझे कोई आपत्ति नहीं होगी"ऐसा कहकर अपने चयन और पुरस्कार की महत्ता को आप मत कम कीजिये.आप बुद्धिजीवी हैं एक अछे कवि और साहित्यकार हैं.सबसे बड़ी बात आप हिंदी की बहुत बड़ी सेवा कर रहें हैं.आप से मेरा विनम्र आग्रह है कि भावुकता में दिए गये इस व्यर्थ के स्पष्टीकरण को डिलीट कर दीजिये.अपनी सदभावना और शुभकामनाओं सहित,अंत में पुन:सादर हरि स्मरण!

के द्वारा: sadguruji sadguruji

मुझे अपनी बात कहने की आज्ञा प्रदान करें आदरणीय श्री संतलाल जी ! ये सच है कि इस बार जागरण ने शायद अपने आपको प्रतिष्ठित करने या नए लोगों के उत्साह वर्धन के लिए स्तरहीन लेखों को भी पुरस्कार के लिए शामिल किया है लेकिन अच्छी बात ये भी है कि बहुत बेहतरीन लेखों को भी उन्होंने सम्मानित किया है ! आप निश्चित रूप से इस सम्मान के हकदार थे ! मैंने आपका लेखन पढ़ा था और समय समय पर और मित्रवारों से वार्तालाप में ये बात आ रही थी कि आप यानी संतलाल जी इस बार के विजेता होंगे , आदरणीय निशा जी मित्तल भी उनमें से एक हैं जिन्होंने ये भविष्यवाणी कर राखी थी ! लेकिन ये चलता है आदरणीय श्री संतलाल जी ! कुछ गलतियाँ हो सकती हैं , किसी से भी ! जागरण को लगा होगा कि वो लेख ज्यादा अच्छे हैं , और होंगे भी क्यूंकि वो पुरस्कृत हुए हैं ! हर किसी को प्रसन्न नहीं किया जा सकता , इसलिए सिर्फ एक बात कहूँगा , एन्जॉय करिए और बेहतरीन , पहले कि तरह लिखते रहिये ! आपके लेख , आपके शब्द बहुत कुछ कहते हैं ! बहुत बहुत बधाई !

के द्वारा: yogi sarswat yogi sarswat

आश्चर्य आदरनीय संतलाल जी,ऐसा किसने कहा.हम तो प्रारम्भ से ही  परस्पर चर्चा करते हुए ये मान रहे थे कि शीर्ष पर आप रहेंगें.आप वरिष्ठ,अनुभवी हैं,सदा आपकी लेखनी की प्रशंसिका रही हूँ मैं तो .आपके आलेख शीर्ष स्थान के लिए सदा उपयुक्त थे मेरी दृष्टि में,                          हाँ इतना अवश्य है की जागरण ने लिखा है कि उसने वर्तनी की शुद्धियों तथा हिंदी के प्रयोग पर ध्यान देते हुए पुरस्कार घोषित किये हैं ,मैं सहमत नहीं क्योंकि बहुत सारे ऐसे आलेख हैं,जो विषय सामग्री और वर्तनी के दृष्टिकोण से बेहतर हैं और इस श्रेणी में सम्मिलित नहीं हैं,जबकि इसके सर्वथा विपरीत उपरोक्त कसौटी पर खरे न उतरने वाले आलेख पुरस्कार की श्रेणी में है.                              आपकी भाषा-शैली और विषय सामग्री मेरे विचार से उत्कृष्ट है.वैसे भी निर्णायक मंडल के दृष्टिकोण और प्रतियोगी के दृष्टिकोण में तो अंतर होता है.

के द्वारा: nishamittal nishamittal

के द्वारा: deepakbijnory deepakbijnory

आदरणीय संतलाल करुण जी ‘ब्लॉग शिरोमणि’ चुने जाने पर आप को बधाई.आप की शुद्ध हिंदी मुझे बहुत प्रभावित करती है और मै भी हिंदी सुधारने की कोशिश कर रहा हूँ.प्रस्तुत कविता "चाँद और सूरज दोनों में ग्रहण" अच्छी लगी.कविता की अंतिम पंक्तियाँ " समाज को देखना होगा कि समस्या की जड़ें आखिर कहाँ हैं" ये समाधान तो नहीं है परन्तु समस्या पर विचार के लिए अच्छा सुझाव है.मुझे ऐसा लगता है कि भविष्य में ये समस्या और बढ़ेगी.लड़की लड़की से शादी करेगी और लड़का लड़का से.समस्या कि जड़ अप्राकृतिक यौन संबंधों से मिलने वाले सुख की भ्रान्ति है.स्कूल कालेजों में बच्चों को यौन-शिक्षा दी जाये और अप्राकृतिक यौन संबंधों के प्रति घृणा पैदा की जाये यही एकमात्र उपाय है.अभी ऐसा नहीं किया गया तो हमारे समाज और देश का भविष्य तो ख़राब होगा ही,हमारी भारतीय संस्कृति व् सभ्यता भी चौपट होगी.

के द्वारा: sadguruji sadguruji

के द्वारा: Santlal Karun Santlal Karun

के द्वारा: शालिनी कौशिक एडवोकेट शालिनी कौशिक एडवोकेट

के द्वारा: Santlal Karun Santlal Karun

गत वर्ष लखनऊ, मुम्बई, दिल्ली आदि शहरों में जिस तरह आतंकवादी भावना का साथ देने के लिए नवयुवक सड़कों पर उतर आए थे, वह हिन्दी-भाषी लॉगिंग, ब्लॉगिंग आदि का बड़ा भयावह रूप था | जागरण जंक्शन पर ही प्रस्तुत पंक्तियों के लेखक का सामना एक ऐसे ब्लॉगर से हुआ जो टिप्पणी पर टिप्पणी के साथ अभद्रता और अश्लीलता पर अमादा दिखाई दिए और उनके साथ उत्तर-प्रत्युत्तर के क्रम से स्वयं को अलग करना पड़ा | अतएव इस क्षेत्र में अधिकांश योगदान विवेकशील नागरिकों का होना चाहिए, ताकि देश और समाज के हित में उनकी स्वस्थ चेतना हिन्दी ब्लॉगिंग को आगे बढ़ा सके | बहुत सुन्दर प्रस्तुति, महोदय! आतंकवादी भावना को साथ देनेवाले नवयुवक के बारे में मुझे जानकारी नहीं है - अगर सम्भव हो तो स्पष्ट करने की कोशिश करेंगे - सादर अभिवादन और अभिनन्दन इतनी अच्छी प्रस्तुति के लिए!

के द्वारा: jlsingh jlsingh

1947 ई. में देश की स्वतंत्रता के साथ ऐसा लगा कि स्वतंत्रता-संग्राम की  वाणी हिन्दी का अब नया सूरज उगने वाला है, किन्तु महज़ ढाई वर्ष बाद, जैसे ही 26 जनवरी 1950 को भारत का संविधान लागू किया गया; सारा स्वप्न धूल-धूसरित हो गया और कहने के लिए तो अंग्रेज़ी को भारतीय संविधान में द्वितीय राजभाषा का स्थान दिया गया; परन्तु भारत के ही सपूतों द्वारा व्यवहार में अंग्रेज़ी को राजकाज का सिरमौर बनाकर हिन्दी को वंचित कर दिया गया | तब से स्वतंत्रता के विगत 66 वर्षों से इस देश की कन्याओं-युवतियों के प्रति दुराचार की समस्या के समान हिन्दी के कंटकाकीर्ण मार्ग का प्रश्न अनुत्तरित चला आ रहा है |हिंदी को मान सम्मान , उसका गौअर्व तभी हासिल हो सकता है जब हम इसे अपनी रज मर्रा की जिंदगी में शामिल करें ! बहुत बेहतरीन लेख आदरणीय श्री संतलाल जी !

के द्वारा: yogi sarswat yogi sarswat

1000 वर्षों का संघर्ष और अनेक शासन-तंत्रों का विरोध झेलती आ रही हिन्दी आज भी भिन्नता-भरे विशाल देश को प्राचीन तथा आधुनिक भारतीय भाषाओं जैसे संस्कृत, तमिल, गुजराती, बंगला आदि के परस्पर आदान-प्रदान और सौहार्द से एक सूत्र में पिरोने का काम करती है | इसे अनपढ़ों और ग़रीबों की भाषा न कहकर श्रम-शक्ति, जन-शक्ति और भारत-जैसे महादेश का अंतर्जाल, रक्तवाहिनी और अंत:शक्ति कहना अधिक उपयुक्त है | इसकी अभिव्यक्ति में जीने से इस देश को जो मौलिकता और गौरव मिल सकता है, वह किसी अन्य भाषा से नहीं — अनपढ़ और ग़रीब की भाषा क्यों कहते हो है हिन्दी सबके होंठों पर है फ़बती, सबके हित की है हिन्दी | आदरनीय श्री संतलाल जी, सादर अभिवादन! आइये हम सब मिलजुल कर हिंदी का मान बढ़ाएं, हिंदी में सोंचे, लिखे, पढ़ें, भारत की शान बढ़ाएं. जय हिंदी! जय भारत! जय हिन्द!

के द्वारा: jlsingh jlsingh

के द्वारा: bhanuprakashsharma bhanuprakashsharma

के द्वारा: seemakanwal seemakanwal

के द्वारा: DR. SHIKHA KAUSHIK DR. SHIKHA KAUSHIK

के द्वारा: शालिनी कौशिक एडवोकेट शालिनी कौशिक एडवोकेट

<